अयोध्या मामला : 'नमाज सड़कों पर भी होती है इसका मतलब यह नहीं कि सड़क आपकी'

नई दिल्ली। अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद की उच्चतम न्यायालय (सुप्रीम कोर्ट) में शुक्रवार को सातवें दिन की सुनवाई के दौरान रामलला विराजमान की ओर से दलील दी गई कि विवादित स्थल पर देवताओं की अनेक आकृतियां मिली हैं।
प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ से रामलला विराजमान की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता सी एस वैद्यनाथन ने अपनी दलीलों के समर्थन में विवादित स्थल का निरीक्षण करने के लिए अदालत द्वारा नियुक्त कमिश्नर की रिपोर्ट के अंश पढ़े। 
रामलला के वकील वैद्यनाथन ने कहा कि अदालत के कमिश्नर ने 16 अप्रैल, 1950 को विवादित स्थल का निरीक्षण किया था और उन्होंने वहां भगवान शिव की आकृति वाले स्तंभों की उपस्थिति का वर्णन अपनी रिपोर्ट में किया था।
वैद्यनाथन ने कहा कि मस्जिद के खंबों पर नहीं, बल्कि मंदिरों के स्तंभों पर ही देवी देवताओं की आकृतियां मिलती हैं। उन्होंने 1950 की निरीक्षण रिपोर्ट के साथ स्तंभों पर उकेरी गयी आकृतियों के वर्णन के साथ अयोध्या में मिला एक नक्शा भी पीठ को सौंपा। उन्होंने कहा कि इन तथ्यों से पता चलता है कि यह हिन्दुओं के लिए धार्मिक रूप से एक पवित्र स्थल था।
वैद्यनाथन ने ढांचे के भीतर देवाओं के तस्वीरों का एक एलबम भी पीठ को सौंपा और कहा कि मस्जिदों में इस तरह के चित्र नहीं होते हैं। उन्होंने आगे कहा कि सिर्फ नमाज अदा करने से वह जगह उनकी नहीं हो सकती जब तक वह आपकी संपत्ति न हो। नमाज सड़कों पर भी होती है इसका मतलब यह नहीं कि सड़क आपकी हो गई।
छठवें दिन की सुनवाई के दौरान हिंदू पक्षकारों ने सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि अयोध्या भगवान राम की जन्मभूमि है और वहां मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाई गई थी। लिहाजा शरीयत कानून के तहत यह मस्जिद वैध नहीं है। रामलला विराजमान की ओर से पेश वकील सीएस वैद्यनाथन ने पांच सदस्यीय संविधान पीठ के समक्ष वेद-पुराणों और ऐतिहासिक यात्रा वृत्तांतों के जरिये अपनी दलीलों को सिद्ध करने की कोशिश की। यहां सवाल-जवाब के क्रम से समझिए आखिर सुनवाई के दौरान क्या कुछ हुआ।



Popular posts
इसके अलावा सीसीटीवी कैमरों से लगातार मॉनिटरिंग भी की जाएगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि इसके अलावा रविवार से ऑटो और टैक्सी को भी डिसइंफैक्ट किया जा रहा है, ताकि वायरस के संक्रमण को रोका जा सके।
एम्स स्थित कोविड-19 अस्पताल में भर्ती हुए दो संक्रमित एम्स ट्रामा सेंटर, दिल्ली स्थित कोविड-19 अस्पताल में आज सुबह ही दो कोरोना संक्रमित मरीजों को भर्ती कराया गया है।
डीएम के आदेशानुसार यात्रियों को होटल का किराया एडवांस में जमा करना होगा। होटलों को इनके कपड़ों की धुलाई की व्यवस्था भी अलग से करनी पड़ेगी। उन यात्रियों को खाना भी डिस्पोजेबल प्लेट में दिया जाएगा। होटल के जिन हिस्सों में इन यात्रियों के लिए कोरेंटाइन की व्यवस्था की गई है, उसकी निगरानी के लिए सुरक्षा गार्ड तैनात किए गए हैं, जो होटल में ठहरने आए बाकी लोगों को उस तरफ आने से रोकेंगे।
गैर-सरकारी संगठनों की मदद से, दिल्ली पुलिस 10 दिनों से 6,000 परिवारों को राशन और लगभग 2 लाख लोगों को भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। हम राज्य में आवश्यक वस्तुओं की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित कर रहे हैं।
उन्होंने बताया कि मरकज से बाहर लाए गए लगभग 2300 लोगों में से 500 लोग जिनमें कोरोना के दिखाई दिए उन्हें अस्पतालों में भर्ती कराया गया और 1800 लोगों को क्वारंटीन में रखा गया। हम उन सभी का परीक्षण कर रहे हैं, उनके परिणाम 2-3 दिनों में आएंगे, इससे सकारात्मक संक्रमितों की संख्या में वृद्धि हो सकती है।